Duck hunt
2024-06-20 08:36
श्री हनुमान चालीसा

!! श्री हनुमान चालीसा !!
श्री गुरू चरण सरोज रज ,निज मनु मुकुरू सुधारी ||

बरनऊँ रघुबर बिमल जसु , जो दायकु फल चारी ||


बुद्धिहीन तनु जानिके , सुमिरौं पवन कुमार ||

बल बुद्धि , विद्या देहु मोहिं , हरहु कलेश विकारा ||

~*~*~ चौपाई ~*~*


जय हनुमान ग्यान गुण सागर |

जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ||


रामदूत अतुलित बलधामा |

अंजनिपुत्र पवन सुत नामा ||


महावीर विक्रम बजरंगी |

कुमति निवार सुमति के संगी ||


कंचन वरण विराज सुवेसा |

कानन कुंडल कुंचित केसा ||


हाथ बज्र और ध्वजा विराजै |

कांधे मूंज जनेऊ साजै ||


शंकर सुवन केसरी नंदन |

तेज प्रताप महा जगबन्दन ||


विद्यावान गुणी अति चातुर |

राम काज करिबे को आतुर ||


प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया |

राम लखन सीता मन बसिया ||


सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा |

विकट रूप धरि लंक जरावा ||


भीम रूप धरि असुर संहारे |

रामचन्द्र जी के काज संवारे ||


लाय संजीवन लखन जियाये |

श्री रधुबीर हरषि उर लाये ||


रघुपति किन्हीं बहुत बड़ाई |

तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई ||


सहस बदन तुम्हरो यश गावै |

अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं ||


सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा |

नारद सारद सहित अहिसा ||


जम कुबेर दिकपाल जहाँ ते |

कवि कोविद कहि सके कहां ते ||


तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा |

राम मिलाय राजपद दीन्हा ||


तुम्हरो मंत्र विभीषण माना |

लंकेश्वर भये सब जग जाना ||


जुग सहस्त्र योजन पर भानु |

लील्यो ताहि मधुर फल जानू ||


प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माही |

जलधि लांघि गए अचरज नाही ||

दुर्गम काज जगत के जेते |

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ||


राम दुआरे तुम रखवाले |

होत न आग्या बिनु पैसारे ||


सब सुख लहैं तुम्हारी सरना |

तुम रक्षक काहु को डरना ||


आपन तेज सम्हारो आपै |

तीनों लोक हांक ते कांपै ||


भुत-पिशाच निकट नहिं आवै |

महावीर जब नाम सुनावैं ||


नासै रोग हरैं सब पीरा |

जपत निरंतर हनुमत वीरा ||


संकट ते हनुमान छुड़ावैं |

मन-क्रम-वचन ध्यान जो लावैं ||


सब पर राम तपस्वी राजा |

तिनके काज सकल तुम साजा ||


और मनोरथ जो कोई लावै |

सोई अमित जीवन फल पावैं ||


चारो जुग परताप तुम्हारा |

है परसिद्ध जगत उजियारा ||


साधु सन्त के तुम रखवारे |

असुर निकंदन राम दुलारे ||


अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता |

अस वर दीन जानकी माता ||


राम रसायन तुम्हरे पासा |

सदा रहो रघुपति के दासा ||


तुम्हरे भजन राम को पावै |

जनम-जनम के दुःख बिसरावै ||


अन्तकाल रघुबरपुर जाई |

जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई ||


और देवता चित्त न धरई |

हनुमत सेई सर्व सुख करई ||


संकट कटैं मिटै सब पीरा |

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा ||


जय जय जय हनुमान गोसांई |

कृपा करहु गुरूदेव की नाई ||


जो शत बार पाठ कर कोई |

छूटहि बंदि महासुख होई ||


जो यह पढै हनुमान चालीसा |

होय सिद्धि साखी गौरीसा ||


तुलसीदास सदा हरि चेरा |

कीजै नाथ ह्रदय महं डेरा ||



पवन तनय संकट हरण , मंगल मुरति रूप |

राम लखन सीता सहित , ह्रदय बसहू सुर भूप ||

_________________

!! समाप्त !!
Lable :Shree Hanuman Chalisa
ThisShree Hanuman ChalisaIs Posted ByRajkumar Deshmukh (ADMiN), On 24 August 2016, Wednesday.

Special Thanks To My Dear Sister
Geeta Deshmukh
We Are Thankfull To Our Beloved And Loving MemorySweet Kanchan

Don't Forget To Visit
BHAKT! SUDHA 2 iN 1For Read Devotional Songs And Bhajans In Hindi Text (Lyrics) And Many More Services.

Visits This Page :-

181
<< Back / Home.
भक्ति सुधा कंचन